fbpx
February 1, 2023

गूगल की 10,000 से ज़्यादा महिला कर्मचारियों ने कंपनी पर केस कर दिया है.

बराबार काम के लिये औरतों को पुरुषों से कम वेतन दे रहा था Google, 10800 महिलाओं ने ठोका मुकदमा

 407 Total Likes and Views

Like, Share and Subscribe

गूगल की 10,000 से ज़्यादा महिला कर्मचारियों ने कंपनी पर केस कर दिया है. एक रिपोर्ट के मुताबिक़, अब इस मुकदमे को Class Action Status मिल चुका है. Class Action Status का मतलब है अब महिलाएं अलग-अलग नहीं बल्कि कंपनी से एकजुट होकर लड़ सकती हैं. 2017 में गूगल की कई महिला कर्मचारियों ने कंपनी पर गंभीर आरोप लगाये थे. इन महिलाओं का कहना था कि गूगल ने California Equal Pay Act का उल्लंघन किया है. महिलाओं को कंपनी ने एक ही काम के लिये पुरुषों से कम पगार दी है, ये आरोप लगाते हुये महिलाओं कोर्ट पहुंच गईं.

Mountain View, California, USA – March 28, 2018: Google sign at Google’s headquarters in Silicon Valley. Google is an American technology company.

गूगल में कार्यरत इन महिलाओं का कहना है कि गूगल ने हमेशा पुरुष कर्मचारियों और महिला कर्मचारियों के बीच भेदभाव किया है. शुरुआत में ये मुकदमा चार महिलाओं, Kelly Ellis, Holly Pease, Kelli Wisuri और Heidi Lamar द्वारा दर्ज किया गया था. Class Action Status मिलने के बाद 2013 से गूगल में काम कर रही 10,800 महिला कर्मचारी अब इस मुकदमे का हिस्सा बन चुकी हैं.

महिलाओं का प्रतिनिधित्व कर रही एक वक़ील, Kelly Dermody ने इस निर्णय को गूगल और तकनीक सेक्टर में काम कर रही महिलाओं के लिये महत्त्वपूर्ण बताया. Dermody का कहना था कि केस पर कार्रवाई 2022 में शुरू हो सकती है.

महिलाओं ने मुआवज़े के रूप में गूगल से 600 मिलियन डॉलर की मांग की है. महिलाओं का ये भी आरोप ही कि पुरानी सैलरी को ज़रिया बनाकर गूगल ने महिलाओं को पुरुषों से कम वेतन दिया. महिलाओं का ये भी कहना था कि वैसे तो गूगल ने 2017 में ये अन्याय बंद कर दिया था लेकिन वो अभी तक कंपनी ने लिंग के आधार पर वेतन मिलने जैसे बड़े मुद्दे पर कोई कार्रवाई नहीं की है.

गूगल ने तमाम आरोपों को खारिज किया है और महिलाओं और पुरुषों के बीच भेदभाव न करने और उसे ख़त्म करने की बात कही है.

गूगल ही नहीं, कई बड़ी कंपनियों पर इस तरह के आरोप लगे हैं. कुछ दिनों पहले अमेज़न की 5 महिला कर्मचारियों ने कंपनी पर केस लिंग के आधार पर भेदभाव, नस्लवाद आदि गंभीर मुद्दों को लेकर केस कर दिया था. अमेज़न ने इस पर टिप्पणी देते हुये कहा कि मामले की जांच की गई और कोई भी सुबूत नहीं मिले.

 408 Total Likes and Views

Like, Share and Subscribe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *