fbpx

China Floods: 1,000 वर्षों में चीन की भारी बारिश, विनाशकारी बाढ़ का कारण

चीन में भारी बारिश और बाढ़ से 25 लोगों की मौत, 10 लाख से अधिक लोग प्रभावित, सेना तैनात

Loading

Like, Share and Subscribe
https://nationalwebmedia.com/25-dead-in-flooded-zhengzhou-metro-and-landslides-in-central-china-military-deployed

China Floods : चीन में भारी बारिश और बाढ़ से 25 लोगों की मौत, 10 लाख से अधिक लोग प्रभावित

China Floods : चीन में भारी बारिश और बाढ़ से 25 लोगों की मौत, 10 लाख से अधिक लोग प्रभावित, सेना तैनात

चीन के मध्य हेनान प्रांत में 1,000 वर्षों में सबसे भारी बारिश (China Floods) के कारण कम से कम 25 लोगों की मौत हो गई है, जिसके चलते राष्ट्रपति शी चिनफिंग को जलमग्न सबवे, होटलों और सार्वजनिक स्थानों में फंसे लोगों को बचाने के लिए बुधवार को सेना को तैनात करना पड़ा। चीनी सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के अनुसार, बाढ़ से कुल 12.4 लाख लोग प्रभावित हैं और करीब 200,000 लोगों को बचाया गया है।

आधिकारिक मीडिया ने स्थानीय अधिकारियों के हवाले से बताया कि भारी बाढ़ में 25 लोगों की मौत हो गई और सात अन्य लोग लापता हैं। सबवे स्टेशनों के बाढ़ की चपेट में आने के कारण 12 लोगों की मौत हो गई और पांच अन्य घायल हो गए। हांगकांग स्थित साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने बताया कि उनकी मौत मंगलवार रात को तब हुई जब उनकी सबवे ट्रेन में बाढ़ का पानी बढ़ गया। एक दीवार के ढहने से भी दो लोगों की मौत हो गई।

मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि बारिश का ऐसा कहर दुर्लभ ही देखने को मिलता है। भारी बारिश (China Floods) के कारण उत्पन्न हुई स्थिति से 1.26 करोड़ की आबादी वाली प्रांतीय राजधानी झेंगझोऊ (Zhengzhou) में सार्वजनिक स्थानों और सबवे टनल में पानी भर गया। सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में सबवे में फंसे यात्री डरे हुए दिख रहे हैं, क्योंकि पानी उनकी गरदन तक पहुंच गया है। उन्हें वहां से निकाला गया या नहीं इसका पता नहीं चल पाया है।

कई गाड़ियों के बह जाने और लोगों के बारिश (China Floods) के कारण सड़क पर बने गड्ढों में डूबने के भी वीडियो सामने आए हैं। बारिश का पानी शहर की लाइन फाइव की सबवे सुरंग में चला गया, जिससे एक ट्रेन में कई यात्री फंस गए। सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार, शी ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की तैनाती का आदेश दिया और कहा कि सभी स्तर के अधिकारी लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करें, क्योंकि झेंगझोऊ शहर में बाढ़ की स्थिति बिगड़ती जा रही है।

हेनान के प्रांतीय मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि प्रांतीय राजधानी झेंगझोऊ में मंगलवार को 24 घंटे में औसतन 457.5 मिमी बारिश हुई। मौसम संबंधी रिकॉर्ड रखे जाने के बाद से यह एक दिन में अब तक हुई सर्वाधिक वर्षा है। खबर के अनुसार, कई जगह पानी भर जाने के कारण शहर में यातायात ठप पड़ गया। 80 से अधिक बसों की सेवाएं निलंबित करनी पड़ी, 100 से अधिक के मार्ग बदले गए और सबवे सेवांए भी अस्थायी रूप से बंद कर दी गई हैं।

खबर में बताया गया कि पुलिस अधिकारी, दमकल कर्मी और अन्य स्थानीय उप जिला कर्मी मौके पर बचाव कार्य में जुटे हैं। सबवे में पानी कम हो रहा है और यात्री फिलहाल सुरक्षित हैं। झेंग्झोऊदोंग रेलवे स्टेशन पर 160 से अधिक ट्रेनें रोकी गईं। झेंगझोऊ के एयरपोर्ट पर आने-जाने वाली 260 उड़ानें रद्द की गई हैं। वहीं, स्थानीय रेलवे अधिकरियों ने भी कुछ ट्रेनों को रोक दिया है या उनके समय में परिवर्तन किया है। आंधी तूफान से प्रभावित शहर में कुछ स्थानों पर बिजली और पेयजल सेवाएं भी बंद हैं।

भयंकर बाढ़ का कारण क्या है?

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने बताया कि आने वाला तूफान भारी बारिश (China Floods) के कारण आया था। तूफान, हवा की धाराओं के साथ, वायुमंडलीय पानी ले गया और ताइहांग और पुन्यु पर्वत से घिरे झेंग्झौ शहर में केंद्रित हो गया।

हालाँकि, चीन में बाढ़ अभूतपूर्व है। देश में हर साल गंभीर जल संकट देखा जाता है, जिसके परिणामस्वरूप जान-माल का नुकसान होता है। हालांकि, पिछले कुछ वर्षों में, इसका प्रभाव जलवायु परिवर्तन और तेजी से शहरीकरण से बढ़ा है। जैसे-जैसे अधिक भूमि अविनाशी कंक्रीट से ढकी होती है, सतही जल रिसाव का खतरा बढ़ जाता है। पिछले साल देश में बाढ़ आई थी 200 लोग मारे गए या लापता हो गए और 25 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष नुकसान हुआ.

झेंग्झौ शहर चीन की दूसरी सबसे लंबी नदी पीली नदी के तट पर बसा है, जो एक और कारण है कि इस क्षेत्र में बाढ़ को नियंत्रित करना मुश्किल है। देश बाढ़ को कम करने के लिए मानव निर्मित बांधों और जलाशयों पर निर्भर है, लेकिन भारी बारिश ने बांधों के लिए पानी पकड़ना असंभव बना दिया है। अधिकारियों ने अतीत में यांग्त्ज़ी नदी पर बने दुनिया के सबसे बड़े पनबिजली बांध थ्री गोरजेस डैम की ताकत के बारे में भी चिंता जताई है, क्योंकि सालों से बारिश हो रही है।

समाचार एजेंसी एएफपी ने बताया कि ग्रीनपीस पूर्वी एशिया के जलवायु विश्लेषक ली शुओ के अनुसार, बाढ़ “अलार्म बजाती है कि जलवायु परिवर्तन यहां चीन के लिए है”। एक अन्य विशेषज्ञ, सिंगापुर में पृथ्वी प्रयोगशाला के निदेशक बेंजामिन हॉर्टन ने कहा कि ग्लोबल वार्मिंग के साथ, पृथ्वी के वायुमंडल में अधिक नमी होगी और इस प्रकार भारी बारिश होगी।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें Facebook (https://www.facebook.com/nationalwmedia) और Twitter (https://twitter.com/nationalwmedia) पर फॉलो करें।

Loading

About Post Author

Like, Share and Subscribe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *