fbpx
February 1, 2023

Kamalpreet Kaur डिस्कस थ्रो फाइनल के लिए क्वालीफाई करने वाली दूसरी भारतीय महिला बनीं

शनिवार को डिस्कस थ्रो में कमलप्रीत कौर ने शानदार प्रदर्शन करते हुए फाइनल में जगह पक्की की। 25 साल की इस खिलाड़ी ने अपने धमाकेदार प्रदर्शन से सबका दिल जीता और क्वालीफायर में 64 मीटर की दूरी तक चक्का फेक फाइनल में इतिहास के पन्नों में नाम दर्ज कराया।

 1,334 Total Likes and Views

Like, Share and Subscribe

Kamalpreet Kaur becomes second Indian woman to qualify for Discus Throw final

कमलप्रीत कौर (Kamalpreet Kaur) भारत के नए मिले खेल नायकों में से एक हैं। पंजाब की 25 वर्षीया ने इस साल की शुरुआत में फेडरेशन कप के दौरान 65.06 के थ्रो के साथ राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया और टोक्यो ओलंपिक के लिए भारतीय दल में जगह बनाई।

इस प्रकार, वह डिस्कस थ्रो के खेल में टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाली पहली भारतीय बनीं।

25 साल की कमलप्रीत कौर (Kamalpreet Kaur) का जन्म पंजाब के पटियाला में हुई था। पंजाब के श्री मुक्तसर साहिब जिले के बादल गांव की रहने वाली इस खिलाड़ी ने ओलिपिक में पूरे देश का नाम रोशन किया है। बचपन में पढ़ाई लिखाई में औसत रहने वाली कमलप्रीत का ध्यान खेल की तरफ था। उनकी दिलचस्पी पढ़ाई में कम देख शारीरिक शिक्षा कोच ने एथलेटिक्स की तरफ ध्यान देने की सलाह दी। साल 2012 में उन्होंने एथलेटिक्स में भाग लिया और पहली स्टेट मीट में उन्होंने उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन करते हुए चौथा स्थान हासिल किया।

कमलप्रीत ने पटियाला में आयोजित 24वें फेडरेशन कप सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में जबरदस्त खेल दिखाया। पहली बार में ही उन्होंने 65.06 मीटर चक्का फेंककर टोक्यो 2020 के लिए क्वालीफिकेशन हासिल कर लिया। यह उनका पहला और एक मात्र प्रयास था। इस खिलाड़ी ने नेशनल रिकॉर्ड अपने नाम करते हुए 63.50 मीटर के ओलंपिक योग्यता अंक को काफी पीछे छोड़ दिया। साल 2012 में कृष्णा पूनिया 64.76 मीटर का रिकॉर्ड बनाया था जिसे कमलप्रीत ने तोड़ते हुए अपने नाम कर लिया।

65 मी थ्रो करने वाली पहली भारतीय

कमलप्रीत कौर (Kamalpreet Kaur) ने 24वें फेडरेशन कप सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 65 मीटर चक्का फेंककर नया कीर्तिमान स्थापित किया। वह इस स्पर्धा में 65 मीटर बाधा पार करने वाली पहली भारतीय महिला बनीं और इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज कराया।

कमलप्रीत भारतीय रेलवे में क्लर्क के रूप में कार्यरत हैं और राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में रेलवे की तरफ से ही खेलती हैं। सीमा पुनिया को अपना आदर्श मानने वाली इस खिलाड़ी का सपना ओलिंपिक में देश के लिए गोल्ड मेडल जीतना है। कमलप्रीत (Kamalpreet Kaur) का लक्ष्य 68 मीटर की दूरी तक चक्का फेंकने की है।

सोशल मीडिया अपडेट्स के लिए हमें
Facebook (https://www.facebook.com/nationalwmedia) और Twitter (https://twitter.com/nationalwmedia)

 1,335 Total Likes and Views

Like, Share and Subscribe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *